Sunday, August 19

हादसा या हादसा दिखाने की कोशिश ?:इंदौर पटना एक्सप्रेस 2016

हमारा देश बहुत तेज गति से आगे बढ़ रहा हैं लेकिन यहां की व्यावस्था वही पुरानी वाली घिसी पिटी । एक तरफ हम बुलेट ट्रेन की बात करते है वही दूसरी तरफ हमारे पास जो है उसे संभाल नही पाते है।
kanpur-train-accident_morning

कल सुबह करीब तीन बजकर पंद्रह मिनट पर इंदौर पटना एक्सप्रेस के चौदह डिब्बे पटरी से उतरने के कारण नींद में सोते हुए ताजा रिपोर्ट के मुताबिक 150 लोगो की जान चली गई और करीब 250 से ज्यादा लोग घायल हो गये हैं ।  ये आंकड़ा बढ़ भी सकता है। सेना और एनडीआरएफ की टीम बड़े जोरो शोरो से बचाव कार्य में लगी हुई हैं ।
इतना बड़ा हादसा पिछले छह सालो के बाद हुआ हैं एक रिपोर्ट के मुताबिक लगभग हर साल करीब 300 लोगो की मौत रेल हादसे से होती है ये बहुत ही अफ़सोस करने वाली बात है।

Rescuers search among the debris after 14 coaches of an overnight passenger train rolled off the track near Pukhrayan village in Kanpur Dehat district of the northern Indian state of Uttar Pradesh, India, Monday, Nov. 21, 2016.

एक और गौर करने वाली बात ये हैं कि हमारे रेलवे अधिकारी कभी किसी दूसरे की बात क्यों नही सुनते। क्यों उन्हें जब कोई व्यक्ति राय देता है तो वो सुनकर भी अनसुना कर देते हैं। क्योंकि एक शख्स के मुताबिक उसके यात्रा करते समय उसे ट्रैन के पहियों से कुछ अलग तरह की आवाज आती महसूस हुई ।

उसे ऐसा इसलिए लगा की वो नियमित यात्रा करने वालो में से हैं फिर उसने इस बात की शिकायत स्टेशन पर मौजूद अधिकारियो से कि लेकिन उन्होंने ये कह के टाल दिया की पहियो से ऐसी आवाजे तो आती रहती है।

train-derail-moring

 

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने उच्चस्तरीय जांच के निर्देश दे दिए है। जाँच के बाद ही ये साफ होगा की ये कोई हादसा है या फिर किसी के द्वारा हादसा दिखाने की कोशिश की गई  हैं। उन्होंने कहा कि अगर ईस हादसे में कोई दोषी पाया गया तो उसपर सख्त कानूनी कारवाई की जाएगी । उन्होंने हादसें में पीड़ित परिवारो को सरकार के तरफ से पूरा सहयोग करने का भरोसा भी दिया।

0Shares

31 Comments

Please wait...

Subscribe to our newsletter

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.