Saturday, November 25

रख हौंसला वो मंज़र भी आयेगा

एक ट्रक में मारबल का सामान जा रहा था,
उसमे टाईल्स भी थी , और
भगवान की मूर्ती भी थी …!!

रास्ते में टाईल्स ने मूर्ती से पूछा ..
“भाई ऊपर वाले ने हमारे साथ ऐसा भेद-भाव क्यों किया है?”

मूर्ती ने पूछा, “कैसा भेद भाव?”

टाईल्स ने कहा,

“तुम भी पथ्थर मै भी पथतर ..!!
तुम भी उसी खान से निकले ,
मै भी..
तुम्हे भी उसी ने ख़रीदा बेचा , मुझे भी..

तुम भी मन्दिर में जाओगे, मै भी …
पर वहां तुम्हारी पूजा होगी …

और मै पैरो तले रौंदा जाउंगा.. ऐसा क्यों?”

मूर्ती ने बड़ी शालीनता से जवाब दिया,

“तुम्हे जब तराशा गया,
तब तुमसे दर्द सहन नही हुवा;

और तुम टूट गये टुकड़ो में बंट गये …
और मुझे जब तराशा गया तब मैने दर्द सहा,

मुझ पर लाखो हथोड़े बरसाये गये ,
मै रोया नही…!!

मेरी आँख बनी, कान बने, हाथ बना, पांव बने..
फिर भी मैं टूटा नही …. !!

इस तरहा मेरा रूप निखर गया …
और मै पूजनीय हो गया … !!

तुम भी दर्द सहते तो तुम भी पूजे जाते..

मगर तुम टूट गए …

और टूटने वाले हमेशा पैरों तले रोंदे जाते है..!!”

# मोरल #

भगवान जब आपको तराश रहा हो तो,
टूट मत जाना …
हिम्मत मत हारना …!!
अपनी रफ़्तार से आगे बढते जाना,
मंजिल जरूर मिलेगी …. !!

सुन्दर पंक्तियाँ:

मुश्किलें केवल बहतरीन लोगों
के हिस्से में ही आती हैं…

क्यूंकि वो लोग ही उसे बेहतरीन
तरीके से अंजाम देने की ताकत
रखते हैं..!!

“रख हौंसला वो मंज़र भी आयेगा;
प्यासे के पास चलकर समंदर भी
आयेगा..!

थक कर ना बैठ, ऐ मंजिल के मुसाफ़िर;

मंजिल भी मिलेगी और
जीने का मजा भी आयेगा…!!”