Thursday, October 19

भारत को पहला ओलम्पिक जीत इसी अंग्रेज ने दिलाई थी

करीबन 116 साल पहले जब भारत ने सन् 1900 में पेरिस ओलिंपिक में पहली बार भाग लिया था तब पहली बार में ही भारत ने  दो सिल्वर मेडल अपने नाम कर लिए थे। और ये दोनों ही मेडल नॉर्मन प्रिचार्ड नाम के एक सख्शियत (अंग्रेज) ने दिलाया था। और तभी से कहा जाता है कि भारत का पहला ओलम्पिक जीत एक विदेशी ने दिलाया ।

 

कहानी यूँ है कि नॉर्मन प्रिचार्ड का जन्म 23 जून 1877 को कोलकाता के अलीपुर नामक स्थान में हुआ था ।
सन् 1894 से  लेकर सन् 1900 तक लगातार बंगाल के लिए 100 मी. फर्राटा दौड़ में भाग लेकर दौड़ जीती थी। और साथ ही उन्होंने 440 मी. और 120 मी. हर्डल रेस में भी अपना हुनर दिखा कर जलवा बिखेरा था।
वर्ष 1900 में पेरिस में ओयोजित ओलिंपिक में प्रिचार्ड ने इंडिया की तरफ से शिरकत की और जीत हासिल की। उसके बाद वर्ष 1905 में वे अपने परिवार के साथ वापस ब्रिटेन चले गए। इस तरह से प्रिचार्ड विदेशी होते हुए भी ओलिंपिक में
मेडल जीतने वाले पहले इंडियन बने।
Norman-Pritchard_race

 

नॉर्मन प्रिचार्ड ने  पेरिस में 60 मी., 100 मी., 200 फर्राट) और 200 मी. हर्डल रेस में हिस्सा लेकर  सिल्वर मेडल जीता। इस तरह से पेरिस में जीते गए दोनों सिल्वर मेडल्स  IOC (आईओसी) के रिकॉर्ड में  भारत के खाते में  ही दर्ज हैं यहाँ तक कि  इंटरनेशनल एथलेटिक्स एसोसिएशन के बाद प्रिचार्ड को भारत का ही बताया गया है ।

 

वर्ष 1900 से 1902 तक इंडियन फुटबॉल एसोसिएशन के सेक्रेटरी के पद पर भी रहे। बाद में हॉलीवुड फिल्‍मों में एक्टिंग करने के लिए अमेरिका चले गए और साइलेंट फिल्‍मों के एक्‍टर बन गए। उन्होंने  ‘बियू गेस्‍टे’ और ‘डासिंग मदर्स’ में भी काम किया । हॉलीवुड फिल्‍मों में उनको “नॉर्मन ट्रेवर” नाम पुकारा जाता था ।

norman_film_beau_gestenorman_film_dancing mother

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

उनका 31 अक्टूबर, 1929 को लॉस एंजिलिस में निधन हुआ।इस तरह से प्रिचार्ड ओलिंपिक में मेडल जीतने वाले ना सिर्फ पहले इंडियन, बल्कि पहले एशियन भी थे।

यह ओलिंपिक गेम हर चार साल में एक बार खेली जाती है और इस बार 2016 का ओलिंपिक गेम  ब्राजीली शहर रियो डि जिनेरियो में 5 – 21 अगस्‍त के बीच आयोजित होने जा रही है।

rio_de_jenaro_olympic_2016_pic