Friday, August 18

Health

जिम भी उतना ही महत्वपूर्ण है जितना संतुलित आहार  ( Gym is equally important to increase beauty, to improve health as the balanced diet ) in hindi

जिम भी उतना ही महत्वपूर्ण है जितना संतुलित आहार ( Gym is equally important to increase beauty, to improve health as the balanced diet ) in hindi

All, Health
जिम भी उतना ही महत्वपूर्ण है जितना संतुलित आहार  ( Gym is equally important to increase beauty, to improve health as the balanced diet ) क्या आपको पता है कि शरीर को स्वस्थ रखने में जिम भी उतना ही महत्वपूर्ण है जितना संतुलित आहार | एक शोध में पाया गया कि Gym is equally important to increase beauty, to improve health as the balanced diet . खाने के मामले में हम  सतर्क तो हो जाते हैं लेकिन शारीरिक श्रम के मामले उतनी ही लापरवाही करते हैं। तो आइये जानते है-  how gym does increase beauty, improve health. मूड को अच्छा बनाने में ( fresh mood ) :- जिम करने से नई तन्त्रिका कोशिकोओं  का निर्माण होता है | अल्ज़ीमर्स और पार्किन्सन्स जैसी बीमारियाँ दूर रहती हैं |  रोजाना 30 - 40 मिनट gym करने से आपका दिमाग फ्रेश बना रहता है |  यह दिमागी तनाव को भी काफी हद तक दूर करता है | (adsbygoogle
बैंगनी चावल के खाने से डायबिटीज़ और कैंसर के खतरे होंगे कम

बैंगनी चावल के खाने से डायबिटीज़ और कैंसर के खतरे होंगे कम

All, Health
डायबिटीज़ जैसी बीमारी में लोगों को चावल खाने से मना कर दिया जाता है, लेकिन एक ऐसा खास चावल है, जिसके खाने से डायबिटीज़ और कैंसर के खतरे होंगे कम | इस चावल को purple rice का नाम दिया गया है | तो आइये जानते है यह कैसे दूसरे rice से है अलग | purple rice की उत्पत्ति :- जेनेटिक इंजनीयरिंग का उपयोग करते हुए बीजिंग में चीन के वैज्ञानिको ने इस तरह के खास चावल को तैयार किया है | दक्षिण चीन कृषि विश्वविद्यालय के याओ-गुआंग लियू के अनुसार- "यह पौधों में इंजीनियरिंग के इस तरह के एक जटिल मेटाबोलिक मार्ग का पहला प्रदर्शन है" | ऐसा माना जा रहा है कि भविष्य में, कई अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्वों और औषधीय तत्वों के उत्पादन के लिए, प्लांट बायोरिएक्टर विकसित करने के लिए इस ट्रांसजेन स्टैकिंग वेक्टर सिस्टम का इस्तेमाल किया जा सकता है। purple rice में उपस्थित पोषक तत्व:- इस प्रकार के
कैसे जाने ज्यादा स्वस्थ क्या है चावल या चपाती ? know in Hindi

कैसे जाने ज्यादा स्वस्थ क्या है चावल या चपाती ? know in Hindi

All, Health
लोगों को अधिकांशतः इसी बात का डर बना रहता है कि चावल खाने से मोटापा बढ़ता है जबकि ये नहीं पता होता है कि what is more healthy rice or chapati?  चावल या चपाती (rice or chapati ) मोटापे का एकमात्र कारण है यह तो कहना गलत होगा । इस article से यह पता चलेगा कि कैसे दोनों ही महत्वपूर्ण हैं यदि सही तरीके से लिया गया हो | विश्व के कई हिस्सों में खाने के लिए ये दोनों ( rice and chapati ) बड़ी आसानी से मिल जाती है, फिर भी मोटापा ( obesity ) और मधुमेह ( diabetes ) जैसी  स्थितियों में लोग चावल से दूर भागते हैं। क्या यह वाकई में सच है? जानिए what is more healthy rice or chapati ? दरअसल में, हम लोग खाने में सफेद चावल ( polished rice ) का उपयोग करते हैं, सफेद चावल सुन्दर तो दिखाई देता है पर इसकी ऊपरी परत से फाइबर के हट जाने के कारण  इसके   अधिकांश पोषक तत्व जैसे विटामिन और अन्य खनिज भी ख़त्म हो
दही, एक चमत्कारी खाद्य पदार्थ (Curd, a miraculous foodstuff)

दही, एक चमत्कारी खाद्य पदार्थ (Curd, a miraculous foodstuff)

All, Did you know.?, Health
दही बहुत लोगों को भाता है, और गर्मियों में तो इससे होने वाले फायदे भी अनेक हैं| दही, एक चमत्कारी खाद्य पदार्थ है (Curd, a miraculous foodstuff ) |  इसकी एक विशेषता यह है कि आप इसे खाने के साथ भी उपयोग कर सकते हैं, साथ ही साथ यह सौंदर्य और आपके बालों को भी मजबूत बनाने में समर्थ है | दही में बहुत से गुण हैं जैसे कि यह CALCIUM से भरपूर होता है, जो आपकी हड्डियों को ताकत ( strong ) देता है | दही को विभिन्न नामों से अलग अलग भाषाओं  में जाना जाता है | जैसे की कन्नड़ में इसे “मोसारू”, हिंदी और मराठी में “दही”, गुजराती में “दहीम”, और तमिल एवम मलयालम में “तयिर” के नाम से जाना जाता हैं| आइये जानते हैं दही से होने वाले फायदों के बारे में ....  आप कैसे इसका लाभ अपने सौंदर्य को बढ़ाने में और तंदरुस्त रहने में उपयोग कर सकते हैं: दही को नीबू, और बेसन के साथ मिलाकर उपयोग करें, इससे आपकी त्वचा च
इन खाद्य में पाएंगे मछली से भी ज्यादा प्रोटीन 

इन खाद्य में पाएंगे मछली से भी ज्यादा प्रोटीन 

All, Did you know.?, Health
बेशक मछली को प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है और इसे मांसाहारी लोग ही खा सकते है । पर क्या आपको ये भी पता है कि कुछ शाकाहारी पदार्थ ऐसे भी हैं जिनमे fish (फिश) से भी ज्यादा प्रोटीन(protein) पाया जाता है । तो अगर आपके शरीर में प्रोटीन की कमी हो रही है और आप जल्द से जल्द इस कमी को दूर करना चाहते हैं तो इन चीजों को अपनी खुराक में शामिल सकते हैं । प्रोटीन से भरा राजमा (Red kidney beans) :- राजमा में सोया उत्पाद से भी अधिक प्रोटीन पाया जाता है । 100 ग्राम राजमा में 24  ग्राम प्रोटीन पाया जाता है जबकि 100 ग्राम मछली में 22 ग्राम प्रोटीन होता है । प्रोटीन के अलावा राजमा में 340 कैलोरी, 56 ग्राम कार्बोहाइड्रेट्स, 1 ग्राम फैट होता है । चूंकि फैट इसमें ना के बराबर होता है इसलिए लोग राजमे को स्वस्थ आहार में शामिल करते है, जिससे उनका वजन कंट्रोल में रहता है। प्रोटीन का स्रोत सोय
तुलसी के पत्ते को हम कितने दिन तक बासी रख सकते हैं

तुलसी के पत्ते को हम कितने दिन तक बासी रख सकते हैं

All, Did you know.?, Health
कई बार हम तुलसी के पत्तों  को तोड़कर अपने घर में रख लेते हैं। और फिर जरूरत पड़ने पर उसका उपयोग करते हैं। पर हमें यह पता नही होता है कि आखिर हम कितने दिन तक इस बासी पत्ते को उपयोग में ला सकते हैं । हम इस पत्ते को 11 दिन तक यूज़ कर सकते है, तब तक यह बासी नही होता है । यह बात ध्यान रखने कि है जब भी हम इसको उपयोग में लाये उसे धो लें ।   तुलसी को पवित्र माना गया है। इसलिए जब भी आप इसका सेवन करते हैं या तोड़ कर रखते है तो इसे साफ सुथरे स्थान पर रखे । तुलसी को एक ओर जहाँ विज्ञान के छेत्र में औषधि माना गया है वहीं  दूसरी ओर इसकी भारतीय संस्कृति में पूजा भी की जाती है । तुलसी को आयुर्वेद में संजीवनी बूटी भी कहा गया है । कैसे करें इसका उपयोग :- basil leaves को कभी भी चबाकर नही कहना चाहिए । और अगर कभी गलती से खा लिया है तो उसके बाद तुरंत कुल्ला कर ले । ऐसा न करने पर तुलसी के अम्ल दांत
8 घंटे पानी में भिगोकर अंजीर खाने से बने निरोगी

8 घंटे पानी में भिगोकर अंजीर खाने से बने निरोगी

All, Did you know.?, Health
अंजीर में कुछ ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो आपको स्वस्थ बनाये रखता है । ताजे अंजीर की तुलना में सूखा अंजीर ज्यादा फायदेमंद होता है। इसमें शर्करा और क्षार की मात्रा बढ़कर लगभग तीन गुना अधिक हो जाता है।   अंजीर में कैल्शियम पाए जाने के कारण यह हड्डियों को मजबूत बनाता है। सूखे अंजीर में ओमेगा 3 और ओमेगा 6 फैटी एसिड्स होने से दिल की बीमारियों में  रोकथाम होती है। अंजीर में उपस्थित पौटेशियम ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है। वैसे तो अंजीर सभी जगह आसानी से मिल जाता है पर इसका उपयोग वही कर पाते हैं जिन्हें इसके फायदे के बारे में पता होता है। इसका सेवन बच्चे , बूढ़े और जवान सभी कर सकते हैं ।   गर्भवती महिलाओं के लिए उनके शरीर में लौह तत्व की कमी नही होने देता है। अंजीर को चबाकर खाने से  कुछ  ही दिनों में कब्जियत की समस्या दूर हो जाती है। सबसे अच्छा तरीका यह है कि 2-4  सूखे अंजीर को 1 
अब घर बैठे करे दो मुहे बालों की परेशानी को दूर 

अब घर बैठे करे दो मुहे बालों की परेशानी को दूर 

All, Did you know.?, Health
लंबे बाल रखना और रोज़ एक नया स्टाइल अपने बालों पर देना तो हर लड़की चाहती है, पर आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में लंबे बालों की समय समय पर देखभाल करना उतना ही मुश्किल हो गया है । जिसका नतीजा बालों की क्वालिटी में गिरावट और दो  मुंहे बालों का होना है । हम लंबे बाल तो कर लेते है पर साथ ही साथ बालों में रूखापन देखने को मिलता है , जिससे धीरे धीरे दो मुहे बालों की समस्या का सामना करना पड़ता है । कई बार हम ट्रिमिंग करवा कर इसे दूर करने की कोशिश करते हैं , पर ये फिर से हो जाते हैं । रुखे और भुरे बालों के कारण फाइबर की कमी होने से बार बार हमारे बालों के अंतिम छोर में दो – तीन मुंहे बन जाते हैं । इसे एकदम से तो खत्म नही किया जा सकता है । पर अगर नीचे दिए गए टिप्स को अपनाये तो यकीनन यह संभव है । पपीते का पेस्ट लगाए :- अगर आपके बाल बहुत ही रूखे हैं तो आप पपीते के पेस्ट के बराबर दही भी ले लें । और दोनों
अजवाइन के लाभकारी प्रभाव जानकर दंग रह जायेंगे आप ?

अजवाइन के लाभकारी प्रभाव जानकर दंग रह जायेंगे आप ?

All, Health
जब आप छोटे रहे होंगे और अपके कुछ भी अटपटा खाने से पेट में दर्द हुआ होगा तब आपकी माँ या दादी आपको अजवाइन खिलाकर गरम पानी पिलाती होगी जिससे आपका दर्द ठीक हो गया होगा। अजवाइन का उपयोग आपके लिए बहुत लाभदायक है। अगर आप रोज रात में खाना खाने के बाद थोड़ा सा अजवाइन खाते है तो आपको पेट की बीमारी कभी नहीं होगी क्योंकि आपका पेट हमेशा साफ रहेगा ये अंदर के सारी गंदगियों को बहार निकलता है। अजवाइन के बहुत सारे फायदे है।   अजवाइन के फूल को शक्कर में मिलाकर लेने से पित्त की बीमारी ठीक होती है। अगर आपको रात में पेशाब ज्यादा आती है तो आपको अजवाइन का सेवन दिन में कम से कम तीन बार करना चाहिए इससे आपको काफी लाभ मिलेगा। आजवाइन चर्म रोग में भी बहुत फायदेमंद होती है चर्म रोग वाले को पानी में अजवाइन के फूल का चूर्ण मिलकर उक्त स्थान जैसे घाव, दाद ,खाग,खुजली , वाली जगह को उस पानी से धोने पर आराम मिलता है अभी
ब्रेस्ट कैंसर, जोड़ो में दर्द, पथरी आदि जैसे बेमारियों में बथुआ साग है लाभकारी !

ब्रेस्ट कैंसर, जोड़ो में दर्द, पथरी आदि जैसे बेमारियों में बथुआ साग है लाभकारी !

All, Health
आप बचपन में जब अपने गांव के खेतो में जाते होंगे तो आप देखते होंगे की खेत में कई महिलाये खेत  में उपजे छोटे छोटे बथुआ को तोड़ तोड़ कर अपने झोले में इकठ्ठा कर रही है क्या कभी अपने ये जानने की कोशिश की है की बथुआ मनुष्य की सेहत के लिए कितना फायदेमंद है। शायद कभी नही की होगी गलती से अगर आप उनसे पूछें होंगे की इसका क्या होगा तो जवाब मिला होगा की बथुआ का साग बनता है। कुछ लोग जो की आज के नोजवान है उन्हें तो साग पसंद ही नही आता क्योंकि उन्हें हॉटेल में खाना जो पसंद है खैर उन सब बातो को छोड़िये और जानते है की बथुआ हमारे सेहत के लिए कितना फायदेमंद हो सकता है। अगर आप नियमित रूप से बथुआ को अपने खाने में इस्तेमाल करते है तो ओके शरीर में खून की कमी कभी नही होगी। जब खून की कमी नही होगी तो आपको कभी ब्लड प्रेशर की शिकायत नही होगी और ब्लड प्रेसर की शिकायत नही होने के कारन आपको गुस्सा कम आएगा। बथुआ के नियमित